UP निःशुल्क बोरिंग योजना 2023: किसानों को सिंचाई के लिए मुक्त मे बोरिंग की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी

UP Nishulk Boring Yojana 2023 Online Form Download (यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना) – आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अपने राज्य के लघु एवं सीमांत किसानों के हित में संचालित की जाने वाली यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना के बारे में बताने जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश में कई ऐसे लघु एवं सीमांत किसान है जिन्हें खेत की सिंचाई करते समय पानी की कमी का सामना करना पड़ता है। जिसके कारण उन्हें सिंचाई करते समय काफी परेशानी होती है। इसी परेशानी का समाधान करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने वर्ष 1985 में UP Nishulk Boring Yojana को आरंभ किया था। इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानों को‌ उनके खेत में निःशुल्क बोरिंग की व्यवस्था करवाई उपलब्ध जाती है। तो आइए जानते हैं UP Nishulk Boring Yojana 2023 से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे-इसका उद्देश्य, लाभ एवं विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज और आवेदन प्रक्रिया आदि के बारे में।

UP निःशुल्क बोरिंग योजना 2023

सन 1985 में प्रदेश के लघु एवं सीमांत किसानों को बोरिंग की सुविधा प्रदान करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना का शुभारंभ किया गया था। UP Nishulk Boring Yojana के माध्यम से सामान्य जाति एवं अनुसूचित जाति/जनजाति के लघु एवं सीमांत कृषकों को सिंचाई हेतु बोरिंग की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। बोरिंग के लिए पंप सेट की व्यवस्था करने के लिए किसान द्वारा बैंक से ऋण की प्राप्ति भी की जा सकती है। सामान्य श्रेणी के लघु एवं सीमांत कृषको को इस योजना का लाभ तभी प्रदान किया जाएगा जब उनके पास न्यूनतम जोत सीमा 0.2 हेक्टेयर है। 0.2 हेक्टेयर से कम जोत वाले सामान्य श्रेणी कृषकों को इस योजना का लाभ नहीं प्रदान किया जाएगा। यदि कृषकों के पास 0.2 हेक्टेयर से कम जोत है तो किसान इस योजना का लाभ कृषकों को समूह बनाकर प्राप्त कर सकते हैं।

अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लघु एवं सीमांत किसानों के लिए कोई न्यूनतम जोत सीमा निर्धारित नहीं की गई है। प्रदेश के पठारी क्षेत्रों में जहां हैंड बोरिंग सेट से बोरिंग किया जाना संभव नहीं होगा वहां इनवेल या वैगन ड्रिल मशीन से बोरिंग कराने की अनुमति प्रदान की जाएगी। इस स्थिति में कृषकों को अनुमन्य सीमा तक ही अनुदान देय होगा। अतिरिक्त आय व्यय का भार कृषक द्वारा स्वयं वहन किया जाएगा।

UP निःशुल्क बोरिंग योजना 2023 – विवरण

योजना का नाम UP निःशुल्क बोरिंग योजना 2023
राज्य का नाम उत्तर प्रदेश
साल 2023
विभाग लघु सिंचाई विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी राज्य के सभी किसान नागरिक
आवेदन मोड ऑनलाइन
यह भी पढे : इन्दिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना: इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को ₹6000 की मिलेगी आर्थिक सहाय

UP निःशुल्क बोरिंग योजना का उद्देश्य

Up Nihshulk Boring Yojana का उद्देश्य राज्य के छोटे व सीमांत किसानों को सिंचाई सुविधा के लिए पम्पसेट स्थापित कराने हेतु अनुदान प्रदान कराना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करके सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करना है। UP Free Boring Yojana/Nalkup Yojana के माध्यम से किसान अपने खेतों में पंप सेट लगवा सकेंगे जिसके माध्यम से सुचारु रूप से सिंचाई की जा सकेगी। फलस्वरूप खाद्यान उत्पादन में वृद्धि होगी और आर्थिक विकास में भी वृद्धि होगी। साथ ही किसान आत्मनिर्भर भी बनेंगे।

UP निःशुल्क बोरिंग योजना का लाभ एवं विशेषताए

  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सन् 1985 में यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना की शुरुआत की गई थी।
  • इस योजना के माध्यम से सामान्य जाति, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लघु एवं सीमांत किसानों को सिंचाई के लिए बोरिंग की सुविधा उपलब्ध करवाई जाती है।
  • साथ ही किसानों को बोरिंग के लिए पंपसेट की व्यवस्था करवाने के लिए बैंकों से लोन भी उपलब्ध करवाया जाता है।
  • सामान्य जाति के 0.2 हेक्टेयर न्यूनतम जोत सीमा वाले किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। यदि किसी स्थिति में किसानों के पास 0.2 हेक्टेयर से कम जोत सीमा है तो वह किसान समूह बनाकर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • अनुसूचित जाति/जनजाति के किसानों के लिए कोई जोत सीमा निर्धारित नहीं है।
  • UP Nishulk Boring Yojana के माध्यम से प्रदेश के किसानों को पर्याप्त मात्रा में अच्छे से पानी मिल रहा है जिससे फसलों में गुणवत्ता आ रही है।
  • यह योजना किसानों की आय में वृद्धि कर रही है जिससे किसान आत्मनिर्भर बन रहे हैं।

UP निःशुल्क बोरिंग योजना की पात्रता

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक किसान होना चाहिए।
  • किसान के पास न्यूनतम जोत सीमा 0.2 हेक्टेयर होनी चाहिए।
  • यदि कृषक के पास न्यूनतम 0.2 हेक्टेयर की जोत सीमा नहीं है तो किसान समूह बनाकर इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है।
  • इस योजना का लाभ केवल तभी प्राप्त किया जा सकता है जब किसान द्वारा किसी अन्य सिंचाई योजना का लाभ नहीं प्राप्त किया गया हो।

आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता पासबुक
  • जाति प्रमाण पत्र
  • भूमि संबंधित दस्तावेज (नवीनतम खतौनी 61 ख, खसरा)
  • आयु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
यह भी पढे : Coast Guard भर्ती 2023: 12वीं पास पे सहायक कमांडेंट के पदों के लिए भर्ती का नोटिफिकेशन जारी

आवेदन कैसे करे

अगर आपको यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना का आवेदन करना चाहते है तो आपको इसकी आवेदन प्रक्रिया के बारे में पता होना जरुरी है। हम आपको योजना की आवेदन प्रक्रिया के बारे में बताने जा रहे है, प्रकिया जानने के लिए दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • आवेदक किसान को सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट Minorirrigationup.Gov.In पर जाना होगा।
  • जिसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • होम पेज पर आपको नया क्या है के सेक्शन में जाकर दिए गए ऑप्शंस में से डाउनलोड के ऑप्शन पर क्लिक कर लें।
  • क्लिक करते ही आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जायेगा जिसे आप डाउनलोड कर लें और इसका प्रिंटआउट निकाल कर रख लें।
  • फॉर्म का प्रिंटआउट निकलने के बाद आप फॉर्म में पूछी गयी जनकारियों को भर दें।
  • इसके साथ ही आप फॉर्म में मांगे गए सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी को अटैच कर लें।
  • फॉर्म को पूरी तरह भर लेने के पश्चात आप इसे खंड विकास अधिकारी, तहसील या लघु सिंचाई विभाग में जमा करवा लें।
  • जिसके बाद आपकी आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

महत्वपूर्ण लिंक

HomePage Click Here

Leave a Comment